सौ बार बोलने की अपेक्षा एक बार का प्रत्यक्ष आचरण श्रेष्ठ है so bar bolane ki apeksha ek bar ka pratyaksh aacharan shreshth hai

मेरी आंखों से मुझे जो दिख रहा है वह पानी है या पेट्रोल, इसकी प्रतीति मुझे तभी होगी जब मैं उसका अलग प्रकार से प्रयोग करके देख लेता हूं।
मैं जो भी बोल रहा हूं वह कोरी बकवास है या उसमें मेरी निष्ठा है, इस बात की लोगों को प्रतीति तभी होती है जब मेरा आचरण में जो बोलता हूं उसके अनुरूप ही होता है। मन की एक चालकी  विशेष रूप से समझने की आवश्यकता है। आदर्श के आसमान में उड़ते रहने में उसे जितनी रुचि है उसके लाखवें  हिस्से की रूचि भी उसे आचरण की धरती पर चलने में नहीं है।
अच्छा प्रस्तुत करने, अच्छा प्रचारित करने में जितनी रुचि है उसके लाखवें हिस्से की रुचि अच्छा बनने में नहीं है। कारण ?
आदर्श के आसमान में उड़ने के लिए कुछ नहीं करना पड़ता जबकि आचरण की धरती पर चलने के लिए मन को मारना पड़ता है।
और काया को कष्टों के लिए तैयार करना पड़ता है।
बस, इसी तरह, स्वयं को अच्छा दिखाने के लिए केवल अच्छी-अच्छी बातें ही करनी पड़ती है या लच्छेदार व्यक्तित्व ही देना पड़ता है जबकि अच्छा बनने के लिए तो सुख – सुविधाओं का बड़ा बलिदान देना पड़ता है।
परंतु यह बात अच्छी तरह से याद रखना कि स्वच्छ चादर के आवरण तले सामने वाले को गद्दी अच्छे होने के भ्रम में अवश्य रखा सकता है, पर मात्र इससे गद्दी अच्छी नहीं हो जाती।
कमीज के आवरण तले सीने का कैंसर छिपाने में सफलता मिल सकती है, पर मात्र इससे कैंसर की वेदना से मुक्ति नहीं मिल जाती।
इसी तरह,
लोगों के बीच लच्छेदार और अच्छी-अच्छी बातें होने का भ्रम अवश्य पैदा कर सकते हैं, पर इतने मात्र से हम अच्छे नहीं बन जाते। और एक बात बताऊं ?
जिस दंतशूल के पीछे हाथी नहीं होता वह दंतशूल जैसे किले का दरवाजा तोड़ नहीं सकता वैसे ही जिन शब्दों के पीछे आचरण नहीं होता वे शब्द कोई ठोस परिणाम नहीं दे सकते।
एक अंतिम बात,
मुट्ठी भर – भरकर की शून्य के जोड़,
फिर भी उत्तर रहा शून्य का शून्य,
कदापि लग जाए उसके आगे एक,
तो पल में जीवन बन जाए धन्य अति धन्य। संदेश स्पष्ट है।
आचरण के एक अंक बिना शब्दों की अनगिनत शून्य भी मूल्यहीन है।

सौ बार बोलने की अपेक्षा एक बार का प्रत्यक्ष आचरण श्रेष्ठ है so bar bolane ki apeksha ek bar ka pratyaksh aacharan shreshth hai&rdquo पर एक विचार;

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s