सेवा जगत को खुश करती है, प्रेम मन को seva jagat ko Khush karti hai, hi Prem Man ko

आप भूखे को भोजन दिखाते हो तो इससे वह खुश नहीं हो जाता। उसे खुश करने के लिए आपको उसे भोजन देना पड़ता है। दु:खी को मात्र आश्वासन के दो शब्द बोल कर प्रसन्न नहीं किया जा सकता। उसे प्रसन्न करने के लिए आपको सक्रिय बलिदान देना पड़ता है।
संक्षिप्त में,
दुनिया को आप यदि खुश करना चाहते हो तो उसका एक ही विकल्प है – सेवा ।
और सेवा का एक ही अर्थ है – सक्रिय बलिदान।
यद्यपि,
जगत को खुश करने के लिए सेवा करना यह अलग बात है और सेवा से जगत खुश होता है यह अलग बात है।
घास उगाने के लिए किसान बोवनी करें यह अलग बात है और बोवनी करने से घास उग जाए यह अलग बात है।
यहां हम जो बात कर रहे हैं वह दुनिया को खुश करने के लिए सेवा करने की नहीं, पर सेवा करने से दुनिया खुश होती है इस बारे में हैं। प्रश्न यह है कि ऐसा कौन सा तत्व है जो मन को सेवा करने के लिए उत्साहित करता रहता है ?
उत्तर है – प्रेम।
जैसे ढलान पानी को नीचे उतरने के लिए मजबूर करता ही है, वैसे प्रेम मन को सेवा करने के लिए उत्साहित करता ही रहता है। और मजे की बात तो यह है कि प्रेम मन को खुश रखता है और प्रेम के कारण होने वाली सेवा जगत को खुश रखती है।
जवाब दो –
चाबी जिस तेजी से दरवाजा खोल देती है उससे अधिक तेजी से प्रसन्नता के दरवाजा खोलने वाले प्रेम के हम मालिक हैं भला ? जगत के अज्ञानी वर्ग द्वारा ताकतहीन माने जाने वाले, पर वास्तव में सबसे अधिक ताकत के धारक प्रेम के हम स्वामी हैं भला ? यदि हां,
तो समझ लेना कि बिना संपत्ति के भी हमारा मन हमेशा खुशी रहेगा और यदि ना, तो असीम संपत्ति के बीच भी हमारा मन उदास ही रहेगा।
कितनी सुंदर बात कही है –
” प्रेम सारी जिंदगी का मर्म है उसके बिना की सभी बातें तर्क है “
अंतिम बात,
सेवा द्वारा जगत को खुश रखने में हमें सफलता मिलनी संदिग्ध है, पर प्रेम द्वारा मन को खुश रखने में सफलता मिलनी असंदिग्ध है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s