इच्छाएं सांप के जहरीले दांत जैसी हैं Akshaya saamp ke jahrile dant Jaisi Hain

मन की यह मान्यता है कि तृप्ति के लिए प्राप्ति अनिवार्य है , प्राप्ति के लिए प्रवृत्ति अनिवार्य है और प्रवृत्ति के लिए इच्छा अनिवार्य है ।
संक्षिप्त में ,
इच्छा के बिना प्रवृत्ति नहीं है , प्रवृत्ति के बिना प्राप्ति नहीं है और प्राप्ति के बिना तृप्ति नहीं है।
पर , वास्तविक परेशानी यह है की
प्राप्ति के लिए चाहिए वह पुण्य मर्यादित है , प्रवृत्ति के लिए चाहिए वह शक्ति मर्यादित है, पर इच्छाएं ?
वे तो आकाश के समान अनंत है ।
एक – दो – पांच या पंद्रह इच्छाओं को तुम शायद प्रवृत्ति में रूपांतरित कर सकते हो , पर जहां इच्छाएं अनंत हो वहां तुम क्या कर सकते हो ?
और इन इच्छाओं का स्वरूप भी कैसा ?
तुम बिल्कुल न समझ सको ऐसा !
सुबह मिठाई की मांग करने वाला मन शाम को कड़वी नीम की मांग करने लगता है ! सुबह किसी का खून करने के लिए तैयार हो जाने वाला मन शाम को उसी की खातिर जान देने के लिए तैयार हो जाता है !
सुबह भगवान के पीछे पागल मन शाम को स्त्री के विचारों में रमने लगता है ।
ऐसे सर्वथा न समझे जा सकने वाले मन को तुम खुश रखने में या खुश करने में सफल बन सकते हो‌?
सर्वथा असंभव !
इच्छा ! यह मन का ही शायद दूसरा नाम है। तुमने खो-खो का खेल शायद देखा होगा ।उस खेल में भाग लेने वाले के लिए दौड़ना खुद के वश में नहीं होता , दूसरा उसके आगे खड़ा हो जाए तो उसे दौड़ना ही पड़ता है। बस , मन का ही है।
आत्मा को शांति से बैठने ही नहीं देता।
जहां मन आकर खड़ा हो जाता है आत्मा को भागना ही पड़ता है।
अपने भूतकाल पर दृष्टिपात करके देखो , तुम्हें स्पष्ट ख्याल आ जाएगा की इच्छाओं ने तुम्हारा सुख – चैन ,शांति और प्रसन्नता , सब कुछ छीन लिया है ।
मनुष्य सागर के पानी को समझ सका है ।वह चाहे कितना भी पी लिया जाए , उससे तृषा नहीं मिटती इसका उसे ख्याल है और इसीलिए जब उसे प्यास लगती है तब वह तालाब के पानी की ओर ही दृष्टि डालता है , सागर के पानी के बारे में सोचता तक नहीं। इतना ही कहूंगा कि
इच्छाओं का स्वरूप सागर के पानी जैसा है , तृप्ति के लिए उसकी और ध्यान केंद्रित करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

2 विचार “इच्छाएं सांप के जहरीले दांत जैसी हैं Akshaya saamp ke jahrile dant Jaisi Hain&rdquo पर;

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s