इंसान अपने दु:ख खुद खरीदता है insan Apne dukh khud khareedta hai

एक बार गुरु नानक देव एक नगर में गए। वहां सारे नगरवासी इकट्ठे हो गए। वहां एक महिला भक्त गुरु नानक देव जी से कहने लगी ,  ‘महाराज मैंने सुना है , आप सभी के दु:ख दूर करते हो। मेरे भी दु:ख दूर करो।

मैं तो रोज रोटी अपने घर से बनाकर लंगर में बांटती हूं , फिर भी मुझे सुख क्यों नहीं महसूस होता ? ‘

गुरु नानक देव जी ने कहा , ‘ तुम दूसरों का दु:ख अपने घर लाती हो , इसीलिए दु:खी हो।’ महिला भक्त बोली , ‘ महाराज , मुझे कुछ समझ नहीं आया , मुझ अज्ञानी को ज्ञान दो। ‘

फिर गुरु नानक देव ने पूछा , ‘ तुम जो रोटी लंगर में बांटती हो , उसके बदले में वहां से क्या लेकर जाती हो ? ‘ स्त्री ने जवाब दिया , सिर्फ आपके लंगर के सिवा और कुछ भी नहीं । ‘

गुरु नानक देव जी ने कहने लगे , ‘ लंगर का मतलब है एक रोटी खाना और अपने गुरु का शुकर मनाना। पर तुम तो रोज बड़ी – बड़ी थैलियों में रोटी भर – भर के वापस ले जाती हो। तुम अपने घर के सभी को लंगर खिलाती हो , पर यह नहीं जानती कि गुरुद्वारे में इस लंगर को चखने से कितनों के दु:ख दूर होने थे। तुमने अपने सुख के लिए दूसरों के दु:ख दूर नहीं होने दिए। तुम लंगर से उनके सारे दु:ख अपने घर ले जाती हो और दु:खी रहती हो। ‘

यह सुनते ही उस महिला भक्त की आंखों से पर्दा हट गया। रोते हुए बोली , ‘ महाराज , में अंधकार में डूबी थी। मुझे क्षमा करो। ‘

गुरु नानक देव जी ने समझाया कि इंसान अपने दु:ख खुद खरीदता है , पर उसे कभी पता नहीं चलता। इसीलिए लंगर में अपनी भूख जितना ही खाना चाहिए और लंगर के प्रसाद को भर – भर कर घर कभी नहीं लाना चाहिए । प्रसाद का हर कण कृपा होती है , जिस पर सबका हक है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s