आत्मा की आवाज़ atma ki awaaz

 किसी गांव में एक गरीब ब्राह्मण रहता था । ब्राह्मण गरीब होते हुए भी सच्चा और इमानदार था। परमात्मा में आस्था रखने वाला था । वह रोज सवेरे उठ कर गंगा में नहाने जाया करता था। नहा धो कर पूजा पाठ किया करता था। रोज की तरह वह एक दिन गंगा में नहाने गया नहा… अधिक पढ़ें आत्मा की आवाज़ atma ki awaaz

सुख और आनंद पाना चाहते हो तो वही दूसरे को भी देना सीखो sukh aur Anand Pana chahte ho to vahi dusre ko bhi dena sikho

एक व्यक्ति किसी प्रसिद्ध सूफी संत के पास धर्म संबंधी ज्ञान हासिल करने गया। उस फकीर की चारों ओर ख्याति थी। कहा जाता था कि उनके आशीर्वाद से बीमार लोग स्वस्थ हो जाते थे और बहुतों की परेशानियां दूर हो जाती थीं। दूर प्रांतों से दु:खी -‌ पीड़ित लोग उनके यहां दुआएं मांगते और प्रसन्न… अधिक पढ़ें सुख और आनंद पाना चाहते हो तो वही दूसरे को भी देना सीखो sukh aur Anand Pana chahte ho to vahi dusre ko bhi dena sikho

छोटी सी बात chhoti si baat

वॉशिंगटन में एक बड़ी इमारत थी , जिसकी तीसवीं मंजिल पर हार्नवे नामक एक कंपनी का ऑफिस था। उसमें अनेक कर्मचारी काम करते थे। एक दिन इमारत की लिफ्ट खराब हो गई। उसे ठीक करने में काफी समय लगना था। हार्नवे के कर्मचारियों ने तब सीढ़ियों से दफ्तर पहुंचने का फैसला किया। हालांकि तीसवीं मंजिल… अधिक पढ़ें छोटी सी बात chhoti si baat

ईश्वर की मर्जी के बगैर कुछ भी नहीं होता है ishwar ki marzi ke bagair kuchh Bhi Nahin hota hai

 बहुत समय पहले की बात है। एक शहर में एक दयालु राजा रहता था। उस के यहाँ रोज दो भिखारी भीख मांगने आया करते थे। उन में एक भिखारी जवान था और एक भिखारी बूढ़ा था। राजा उनको रोज रोटी और पैसा दिया करता था। भीख लेने के बाद बूढ़ा भिखारी कहता था ईश्वर देता… अधिक पढ़ें ईश्वर की मर्जी के बगैर कुछ भी नहीं होता है ishwar ki marzi ke bagair kuchh Bhi Nahin hota hai

क्यों माना जाता है ओम को महामंत्र तथा क्या लाभ है इसके उच्चारण के kyon mana jata hai Om ko mahamantra tatha kya labh hai iske uchcharan ke

हिन्दू धर्म में पूरणो और वेदो  के अनुसार ॐ नमः शिवाय का मन्त्र खुद में इतना सर्वशक्तिमान , सर्वशक्तिशाली तथा सम्पूर्ण ऊर्जा का श्रोत है की मात्र इसके उच्चारण से ही समस्त दु:खो , कष्टो का विनाश होता है तथा हर कामना की प्रतिपूर्ति हो जाती है। ॐ अक्षर के बिना किसी घर की पूजा पूर्ण नही मानी जाती… अधिक पढ़ें क्यों माना जाता है ओम को महामंत्र तथा क्या लाभ है इसके उच्चारण के kyon mana jata hai Om ko mahamantra tatha kya labh hai iske uchcharan ke

कर्तव्य बोध होना अति आवश्यक है kartavya Bodh hona ati avashyak hai

एक किसान को विरासत में खूब धन – संपत्ति मिली। वह दिनभर खाली बैठा हुक्का गुड़गुड़ाता और गप्प हांकता रहता। रिश्तेदार और काम करने वाले नौकर – चाकर उसके आलस्य का लाभ उठाते और उसके माल पर हाथ साफ करने में लगे रहते। एक दिन उसका पुराना मित्र उससे मिलने आया। यह अव्यवस्था देखकर उसे… अधिक पढ़ें कर्तव्य बोध होना अति आवश्यक है kartavya Bodh hona ati avashyak hai

मेहनत की कमाई mehnat ki kamai

एक सेठ थे। उनकी कोठी के बाहर सड़क के किनारे एक मोची बैठता था जो जूते मरम्मत करने के दौरान बीच – बीच में भजन या कोई गीत गुनगुनाता रहता था , लेकिन सेठ जी का ध्यान कभी मोची के गानों पर नहीं गया। एक बार सेठ जी बीमार पड़ गए। बिस्तर पकड़ लिया ।… अधिक पढ़ें मेहनत की कमाई mehnat ki kamai

विचारों के सहारे मन का मेला होना vicharon ke sahare Man Ka Mela hona

एक वृद्ध भिक्षु और एक युवा भिक्षु दोनों नदी किनारे से चले जा रहे थे , तभी उन्होंने देखा कि एक युवती नदी में डूब रही है और बचाओ बचाओ के लिए आवाज दे रही है। युवा भिक्षु तुरंत नदी में कुदा और युवती को नदी से बाहर निकाल लाया। इस तरह से उसने उस… अधिक पढ़ें विचारों के सहारे मन का मेला होना vicharon ke sahare Man Ka Mela hona

अन्न का अपमान Anna ka apman

एक युवा भारतीय अमीर अपने मित्रों सहित मौज-मस्ती के लिए जर्मनी गया। उनकी नजर में जर्मनी एक विकसित देश था, इसलिए वहां के लोग विलासिता का जीवन जीते थे। डिनर के लिए वे एक रेस्त्रां में पहुंचे। वहां एक मेज पर एक युवा जोड़े को मात्र दो पेय पदार्थ और दो व्यंजन के साथ भोजन… अधिक पढ़ें अन्न का अपमान Anna ka apman

सोने जैसा जीवन sone jaisa Jeevan

अर्जनगढ़ के राजा अर्जन सिंह कपिल मुनि के आश्रम में नियमित रूप से आते – जाते रहते थे। कपिल मुनि अत्यंत ज्ञानवान , विवेकशील और गुणवान थे। वह अपने पास आने वाले सभी व्यक्तियों की समस्याओं को सुलझाया करते थे। एक दिन राजा ने गौर किया कि एक निपट देहाती और अनपढ़ व्यक्ति कपिल मुनि… अधिक पढ़ें सोने जैसा जीवन sone jaisa Jeevan