पिता ने पुत्र को जीवन के आठ अनमोल रहस्य बताये pita ne Putra ko jivan ke aath Anmol Rahasya bataen

एक सेठ जी अंतिम समय में बेटे को सीख देते हैं। कहते हैं – यह आठ बातों का ध्यान से सुन कर जीवन में उतारोगे तो कहीं भी ठोकर या कष्ट नहीं उठाना पड़ेगा। सदा आनंद में रहोगे। कोई भी समस्या आ भी जाए तो उससे निपटने में सक्षम बन जाओगे।पहली बात – हमेशा मीठा… अधिक पढ़ें पिता ने पुत्र को जीवन के आठ अनमोल रहस्य बताये pita ne Putra ko jivan ke aath Anmol Rahasya bataen

महाबली अंगद ने बताए रावण को मृत्यु के प्रकार Mahabali Angad ne bataen Ravan ko mrutyu ke prakar

राम-रावण युद्ध चल रहा था, तब अंगद ने रावण से कहा – तू तो मरा हुआ है , मरे हुए को मारने से क्या फायदा ? रावण बोला – मैं जीवित हूँ , मरा हुआ कैसे ? अंगद बोले , सिर्फ साँस लेने वालों को जीवित नहीं कहते – साँस तो लुहार का धौंकनी भी… अधिक पढ़ें महाबली अंगद ने बताए रावण को मृत्यु के प्रकार Mahabali Angad ne bataen Ravan ko mrutyu ke prakar

सांसारिक सुखों से भी बड़ा मोक्ष पद है Sansarik sukho se bhi bada moksh pad hai

राजा विक्रमादित्य के राज्य में एक सदाचारी संतोषी ब्राह्मण रहता था। वह निर्धन था। स्त्री की प्रेरणा से धन प्राप्ति के निमित्त घर से निकला तो जंगल में एक महात्मा से भेंट हुई। उन्होंने उसे चिंतित देख आश्वासन दिया और विक्रमादित्य को पत्र लिखा कि तुम्हारी इच्छा पूर्ति का अब समय आ गया है। अपना… अधिक पढ़ें सांसारिक सुखों से भी बड़ा मोक्ष पद है Sansarik sukho se bhi bada moksh pad hai

मेरे साथ जो हुआ वह अच्छा या बुरा Mere sath Jo hua vah achcha ya Bura

एक समय की बात है। एक किसान था जिसके पास एक घोड़ा था। वह अपने इस घोड़े से बहुत प्यार करता था। उसे अपने घोड़े पर बहुत गर्व था जो किसान की कमाई का जरिया भी था। अपनी इस कमाई से किसान अपने परिवार का पेट भरता था। लेकिन एक दिन वह घोड़ा भाग गया।… अधिक पढ़ें मेरे साथ जो हुआ वह अच्छा या बुरा Mere sath Jo hua vah achcha ya Bura

पेड़ का रहस्य ped Ka rahasya

शहर के बाहरी हिस्से में मल्टी नेशनल कम्पनी में काम करने वाले एक सेल्स मैनेजर अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ रहते थे। वह रोज सुबह काम पर निकल जाते और देर शाम को घर लौटते। एक बार कुछ चोरों ने मैनेजर के घर में चोरी करने का मन बनाया। चोरी करने के दो-चार… अधिक पढ़ें पेड़ का रहस्य ped Ka rahasya

कोठी का दान kothi ka daan

मुल्ला नसरुद्दीन हज की यात्रा पर गया। यात्रा के भाव तो थे नहीं , बस गांव के लोगों ने प्रेरित कर दिया तो रवाना हो गया। हज कर लिया। वापसी के समय पानी के जहाज से आ रहा था कि अचानक समुद्र में तूफान उठा। तूफान इतना तीव्र था कि सभी ने जीने की आशा… अधिक पढ़ें कोठी का दान kothi ka daan

हमेशा औरों के प्रति सकारात्मक भाव रखें Hamesha auron ke prati sakaratmak bhav rakhen

एक बार राजा भोज की सभा में एक व्यापारी ने प्रवेश किया। राजा ने उसे देखा तो देखते ही उनके मन में आया कि इस व्यापारी का सबकुछ छीन लिया जाना चाहिए। व्यापारी के जाने के बाद राजा ने सोचा  – मैं प्रजा को हमेशा न्याय देता हूं। आज मेेरे मन में यह अन्याय पूर्ण… अधिक पढ़ें हमेशा औरों के प्रति सकारात्मक भाव रखें Hamesha auron ke prati sakaratmak bhav rakhen

बुद्धि , चतुराई और ईमानदारी से मनचाही सफलता पाई जा सकती है Buddhi , chaturai aur imandari se manchahi safalta pi ja sakti hai

आज से कई सौ साल पूर्व की बात है। एक गांव में रामसिंह नामक एक किसान अपनी पत्नी व बच्चे के साथ रहता था। रामसिंह अनपढ़ व गरीब था। मगर अपने बेटे सुन्दर को वह पढ़ा-लिखाकर किसी योग्य बनाना चाहता था ताकि उसका बेटा भी उसकी भाँति उम्र भर मेहनत-मजदूरी न करता रहे। अपने पुत्र… अधिक पढ़ें बुद्धि , चतुराई और ईमानदारी से मनचाही सफलता पाई जा सकती है Buddhi , chaturai aur imandari se manchahi safalta pi ja sakti hai

दुसरो की परवाह किये बिना अपने हिस्से की जिम्मेदारी निभाने लग जाये Dusron ki parwah kiye Bina Apne hisse ki jimmedari nibhaane lag jaen

एक बार एक राजा के राज्य में महामारी फैल गयी। चारो ओर लोग मरने लगे। राजा ने इसे रोकने के लिये बहुत सारे उपाय करवाये मगर कुछ असर न हुआ और लोग मरते रहे। दु:खी राजा ईश्वर से प्रार्थना करने लगा। तभी अचानक आकाशवाणी हुई। आसमान से आवाज़ आयी कि हे राजा तुम्हारी राजधानी के… अधिक पढ़ें दुसरो की परवाह किये बिना अपने हिस्से की जिम्मेदारी निभाने लग जाये Dusron ki parwah kiye Bina Apne hisse ki jimmedari nibhaane lag jaen

अपने आप पर विश्वास करने से बड़ी कोई शक्ति नहीं Apne aap per vishwas karne se badi koi Shakti Nahin

किसी गाँव मे एक साधु रहा करता था ,वो जब भी नाचता तो बारिश होती थी। अतः गांव के लोगों को जब भी बारिश की जरूरत होती थी , तो वे लोग साधु के पास जाते और उनसे अनुरोध करते की वे नाचे , और जब वो नाचने लगता तो बारिश ज़रूर होती। कुछ दिनों… अधिक पढ़ें अपने आप पर विश्वास करने से बड़ी कोई शक्ति नहीं Apne aap per vishwas karne se badi koi Shakti Nahin