अनाथ anath

श्रमण अनाथी , नगर के बाहर उपवन में थे युवा अवस्था , भरपूर चैतन्य शक्ति और ऊर्जा का आध्यात्मिक प्रयोग वर्षों की साधना को घंटों में पूर्ण कर रहे थे। एक दिन उपवन में सम्राट श्रेणिक पहुंचे । मुनि के दमकते हुए चेहरे और उभरते हुए यौवन से श्रेणिक विस्मय -विमुग्ध हो उठे। सोचने लगे… अधिक पढ़ें अनाथ anath

अहंकार ही माया है ahankar hi Maya hai

अधिकतर लोग ईश्वर की सत्ता को मानते हैं , फिर क्या वजह है कि लोग यह मानते हुए भी उसे देख नहीं पाते ? इसका जवाब यह है कि उन लोगों को ईश्वर इसलिए दिखाई नहीं देता , क्योंकि माया का आवरण मनुष्य के ऊपर पड़ा होता है। जैसे सूर्य सबको प्रकाश और ऊष्मा देता… अधिक पढ़ें अहंकार ही माया है ahankar hi Maya hai

जीवन का अर्थ बताती है अर्थी jivan ka arth batati hai arthi

जीवन भर व्यक्ति इसी सोच में उलझा रहता है कि उसका परिवार है , बीबी बच्चे हैं। इनके लिए धन जुटाने और सुख-सुविधाओं के इंतजाम में हर वह काम करने के लिए तैयार रहता है जिससे अधिक से अधिक धन और वैभव अर्जित कर सके। अपने स्वार्थ के लिए व्यक्ति दूसरों को नुकसान पहुंचाने के… अधिक पढ़ें जीवन का अर्थ बताती है अर्थी jivan ka arth batati hai arthi

दूसरों के भीतर गुण देखिए, दुर्गुण नहीं dusron ke bhitar gun dekhiae durgun Nahin

कबीरदास जी ने कहा है , ‘ बुरा जो देखन मैं चला , बुरा न मिलया कोय। जो दिल ढूंढ़ा आपना , मुझसे बुरा न कोय ।। ‘ कबीरदास जी अपने इस दोहे से जीवन के उस आर्दश को व्यक्त करते हैं जिसकी आज के मनुष्य को बड़ी जरूरत है। ध्यान कीजिए पूरे दिन में… अधिक पढ़ें दूसरों के भीतर गुण देखिए, दुर्गुण नहीं dusron ke bhitar gun dekhiae durgun Nahin

बुढ़ापा जीवन का सुनहरा अध्याय है budhapa jivan ka sunhara adhyay hai

बूढा आदमी दुनिया का सबसे बडा विश्वविद्यालय है। बूढे की एक एक झुर्रियों में जीवन के हजार-हजार अनुभव लिखे होते हैं। बूढे की कांपती हुई गर्दन कहती है कि दुनिया में कुछ भी सार नही है उसके कांपते हुए हाथ कहते हैं कि परोपकार और दान करना हो तो आज ही कर लो, वर्ना कल… अधिक पढ़ें बुढ़ापा जीवन का सुनहरा अध्याय है budhapa jivan ka sunhara adhyay hai

नए साल में शान्ति और समृद्धि पाने के सात उपाय naye sal mein shanti aur samriddhi pane ke sath upay

नववर्ष पर सब के होठों पर खुशी , शांति और समृद्धि पाने की कामना रहती है , लेकिन शांति का मतलब क्या हमें सच में पता है? शांति हमारे भीतर है। बीते साल से गुजरकर नए साल में प्रवेश करते हुए , चलो हम सब इस आतंरिक शांति के प्रति सजग रहने का संकल्प लें… अधिक पढ़ें नए साल में शान्ति और समृद्धि पाने के सात उपाय naye sal mein shanti aur samriddhi pane ke sath upay

नव-वर्ष में शांति से उठाएं पहला कदम nav varsh me shanti se uthane pahla kadam

नया वर्ष , नया समय , नए निर्णय , नए सपने और उन्हें पूरा करने के लिए नया उत्साह। इस एक तारीख के गर्भ में आने वाले तीन सौ चौसठ दिन की कहानियां छिपी हैं। इसलिए नए के उत्साह का मतलब केवल सक्रियता ही न समझी जाए। यह पहली तारीख केवल दिमाग और शरीर को… अधिक पढ़ें नव-वर्ष में शांति से उठाएं पहला कदम nav varsh me shanti se uthane pahla kadam

अपना अपना देखने का नजरिया apna apna dekhne ka najriya

एक बार एक संत अपने शिष्यों के साथ नदी में स्नान कर रहे थे। तभी एक राहगीर वंहा से गुजरा तो महात्मा को नदी में नहाते देख वो उनसे कुछ पूछने के लिए रुक गया। वो संत से पूछने लगा महात्मन एक बात बताईये कि यंहा रहने वाले लोग कैसे है क्योंकि मैं अभी अभी… अधिक पढ़ें अपना अपना देखने का नजरिया apna apna dekhne ka najriya

हुनर को कोई दबा नहीं सकता hunar koi daba Nahin Sakta

   फलेरा नाम के धनी व्यक्ति के घर में एक अनपढ़ लड़का बर्तन मांजने का काम करता था। उसे जब भी फुर्सत मिलती , वह पास के एक मूर्तिकार के यहां चला जाता। वहां मूर्तियां बनते और पत्थर कटते वह बहुत ही ध्यान से देखता। अपनी लगन के कारण मूर्तियों को देख-देखकर ही मूर्तियां बनाने… अधिक पढ़ें हुनर को कोई दबा नहीं सकता hunar koi daba Nahin Sakta

हनुमान से सीखें ये सबसे महत्वपूर्ण संस्कार… Hanuman se sikhen yah sabse mahatvpurn sanskar

दूसरे का मान रखते हुए हम सम्मान अर्जित कर लें , इसमें गहरी समझ की जरूरत है। होता यह है कि जब हम अपनी सफलता , सम्मान या प्रतिष्ठा की यात्रा पर होते हैं , उस समय हम इसके बीच में आने वाले हर व्यक्ति को अपना शत्रु ही मानते हैं। महत्वाकांक्षा पूरी करने के… अधिक पढ़ें हनुमान से सीखें ये सबसे महत्वपूर्ण संस्कार… Hanuman se sikhen yah sabse mahatvpurn sanskar